May 29, 2011

सिनेमा का सफ़र और भावनाओं का बाज़ार

गर्मी की छुट्टियां चल रही थीं.  शाम का समय.  कॉलोनी के सारे बच्चे खेल-कूद हो-हल्ला कर रहे थे.  छोटे, बड़े, हर उम्र के.  लड़कियाँ झुण्ड बनाकर गपशप हाँक रहीं थी.  कुछ आँटी जी अपने दरवाजों से ही बच्चों पर निगाह रखे हुए शाम के चहल पहल का आनंद ले रही थीं.  कहीं शोरगुल, ठहाके, कहीं बच्चों के रोने की आवाज़, तो कहीं बच्चों के माँ की पुकार या चिकार.

लेकिन तभी खेलते खेलते माहौल कुछ बदल सा गया.  मुझे आभास हुआ की सारी चहलकदमी ख़त्म हो गयी.  सबके सब एकदम से गायब हो गए, अपने घरों में.  मई का महीना और शाम के पाँच बजे एकाएक इलाके में सन्नाटा पसर गया.  मेरी बालक बुद्धि पूरी कोशिश करके भी मामला समझ नहीं पा रही थी.  माजरा तब जाकर समझ आया जब मेरे एक दोस्त ने बड़े आश्चर्य से पूछ डाला, "पिक्चर नहीं देखना है क्या?" और वो खुद भागता हुआ अपने घर घुस गया.

मुझे पता नहीं था कि आज सन्डे है और दूरदर्शन पर साप्ताहिक सिनेमा आने वाला था.  वो भी फ़ारूख शेख़ और रेखा की "बीवी हो तो ऐसी."  मूवीज़ में बहुत कम रुची थी मेरी.  इसलिए अपने घर के बाहर चबूतरे पर बैठा और  सामाजिक तौर पर बहिष्कृत सा फील करने लगा.

आधे घंटे बाद ही लोगों का हुजूम दुबारा अपने अपने घरों से एक झटके में निकला.  इस बार मेरी बालक बुद्धि थोड़ी मैच्यूर हो गयी थी.  मैं समझ गया कि लाइट चली गयी है.

ऐसा होता था सिनेमा का क्रेज़ तब.  एक फिल्म देखने के लिए सात दिनों का इंतज़ार किसी भी मूवी को मदर इंडिया और शोले के टक्कर का बना देता था.  टीवी का मतलब ही दूरदर्शन होता था.  आज तो
दर्ज़नो ऐसे चैनेल्स हैं जो दिन रात सिनेमा ही दिखाते हैं.  चहू ओर टीआरपी का खेला चल रहा है.
अरमानों के कुचले जाने की ऐसी ही एक और घटना है.  अमन सात साल का था जब उसे छुट्टियाँ मनाने अपने गाँव जाना था.  हाजीपुर.  लेकिन उसका मन तो रविवार को आने वाली मूवी पर टिका था.  गाँव में बिजली थी नहीं.  सो मम्मी-पापा से बगावत कर वह चन्द्रपुरा में ही रुक गया.  घरवाले लड़के को अकेला छोड़ हाजीपुर चले गए.

लेकिन बेचारे की किस्मत ही फूटी निकली.  उसी सप्ताह पूर्व राष्ट्रपति ग्यानी ज़ेयल सिंह का निधन हो गया और सात दिनों के राष्ट्रीय शोक की घोषणा हो गयी.  एक सप्ताह तक टीवी पर शास्त्रीय संगीत बजता रहा.  बेचारे अमन का दुर्भाग्य देखिये.  शास्त्रीय संगीत सुनने से कहीं ज़्यादा उसकी गाँव जाने की इच्छा थी.  उस बच्चे के अरमान एक राष्ट्रीय दुर्घटना की आँधी तले तहस नहस हो गए.  अमन की भी बालक बुद्धी थोड़ी परिपक्व हो गयी.  उसे दो बातें समझ आ गयी. एक, कि राष्ट्रीय शोक क्या होता है और दूसरी सीख ये कि सन्डे की मूवी से ज्यादा महत्वपूर्ण चीज़ें भी हैं दुनिया में.

ख़ैर, उस समय तो वो बच्चा सिनेमा नहीं देख पाया लेकिन आज जब बाज़ार में कम्पीटीशन बढ़ा, टीआरपी की होड़ मची तो दूरदर्शन ने नेताओं के मरने पर शोक मनाना भी छोड़ दिया.  वो सप्ताह भर का शोक मनाना आज घाटे का सौदा है.  आज तो उनके मृत्यु को भी भुनाने की ही कोशिश होती है.  संवेदनाओं का इस हद तक व्यवसायीकरण हो चुका है.

बाज़ार भारी है भावनाओं पर भी!

13 comments:

  1. aak ki jo sthiti hai usse to yahi pratit hota hai ki aaj ki tv duniya bhavnao se nahi trp se chalti hai. sare channels ne apni naitikta kho di hai. naitikta khone ki pratiyogita me news channels to awwal hain.

    ReplyDelete
  2. bahut teji se diniya me badlav aa raha hai...sb kuch bhulta ja raha hai...ye jo aapne likha hai ab aisa kabhi nahin hone val...bahut kam samay k liye is yug me hm log rahe..andhi daud isko kah skte hain jinher maloom hi nahin ki unhe jana kanha hai bs chal rahe hain lagataar lagataar....

    ReplyDelete
  3. i appriciat that u are still with past times.........but one thing i must say only we are responsible for the situation we are facing........we ran so fast that we ignored our self.doesn't matter what is going on beside us.we are only looking towards our will.our wants,whether it is right or wrong.

    ReplyDelete
  4. bahut sahi likha hai bhai sahab. Samy ek sa kabhi nahi rehta, lekin jis tarah aap puraani kahaaniyon ko pesh karte hain wo zabardast hai.
    Aapki kahaani sunaane ki shaili se prabhavit hun main. Kuchh chune hue logon ko ye pratibha naseeb hoti hai.

    Isi tarah ki aur kahaaniyon ki prateeksha hai hamein, likhte rahiye.

    ReplyDelete
  5. bahut sahi likha hai bhai sahab. Samy ek sa kabhi nahi rehta, lekin jis tarah aap puraani kahaaniyon ko pesh karte hain wo zabardast hai.
    Aapki kahaani sunaane ki shaili se prabhavit hun main. Kuchh chune hue logon ko ye pratibha naseeb hoti hai.

    Isi tarah ki aur kahaaniyon ki prateeksha hai hamein, likhte rahiye.

    ReplyDelete
  6. bahut sahi likha hai bhai sahab. Samy ek sa kabhi nahi rehta, lekin jis tarah aap puraani kahaaniyon ko pesh karte hain wo zabardast hai.
    Aapki kahaani sunaane ki shaili se prabhavit hun main. Kuchh chune hue logon ko ye pratibha naseeb hoti hai.

    ReplyDelete
  7. i like it....i had smile on my face while reading this...very realistic and true...

    ReplyDelete
  8. forever Urs' Riya..June 10, 2011 at 4:04 PM

    LOVELY AND BEAUTIFUL. THIS WRITE-UP IS RIGHT UP.
    LAST TAK MAIN YE NAHI SAMAJH PAYI KI VYANG HAI YA KOI SERIOUS SANSMARAN.
    KAMAAL LIKHTE HO ANU.. TUMHARE POORE LEKH KE DAURAN MAIN MUSKURATI RAHI. READERS KO APNA BANA LE AISE LEKH.

    ReplyDelete
  9. BEECH PICTURE M LIGHT CHALI JANA....AB ISSE DURBHAGYAPURN KYA HOGA...,,,WAISE WO SUNDAY KI MOVIES KO M BHI BHAUT MISS KARTA HU....AAJKAL TO TRP K CHAKKAR M SAB GUD-GOBAR HO GAYA HAI...WO PURANE DIN BHAUT YAAD AATE HAI...

    ReplyDelete
  10. 'bazaar bhaari hai samvednaon par'....aapne kaha..lekin bazaar kaun banata hai...hum log hi na...ek purana geet yaad aa gayaa.....'kaise bazzar ka dastoor tumhe samjhaaoon, bik gaya jo vo kharidaar nahi ho sakta...'aaj hum sab ki naitikta ke maapdand aur prathmiktaayein badal chuki hain..aur aaj ke samay ke frame mein rakh kar naapenge so har cheez bahut jaldi puraani ho jaati hai....rashtriya shok ho ya sunday ki blockbuster picture.....

    ReplyDelete
  11. 'bazaar bhaari hai samvednaon par'....aapne kaha..lekin bazaar kaun banata hai...hum log hi na...ek purana geet yaad aa gayaa.....'kaise bazzar ka dastoor tumhe samjhaaoon, bik gaya jo vo kharidaar nahi ho sakta...'aaj hum sab ki naitikta ke maapdand aur prathmiktaayein badal chuki hain..aur aaj ke samay ke frame mein rakh kar naapenge so har cheez bahut jaldi puraani ho jaati hai....rashtriya shok ho ya sunday ki blockbuster picture.....

    ReplyDelete
  12. बाज़ार भरी है भावनाओं पर भी!

    बिलकुल सही कहा आपने।

    ReplyDelete
  13. बिल्कुल सही लिखा है आपने , पर आज ना वो फ़िल्में बन रही जिन्हें देखने का क्रेज़ लोगों में सप्ताह भर का इंतजार दे ..........ना वैसी भावनाएं हैं..बाज़ार भरी है भावनाओं पर भी!

    ReplyDelete

Don't be Shy, Leave a Reply!
..& Contribute to the divine process of Thought Sharing.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...